कटिहार के एक मात्र समाचार ब्लोग में आपका स्वागत है!कटिहार लाइव तक अपनी बात पहुंचाने के लिए +91 9570228075 पर एसएमएस करें या फोन करें. चाहें तो trustmrig@gmail.com पर मेल कर सकते हैं. मीडिया में आवाजाही, हलचल, उठापटक, गतिविधि, पुरस्कार, सम्मान आदि की सूचनाओं का स्वागत है. किसी प्रकाशित खबर में खंडन-मंडन के लिए भी आप +91 9570228075 या trustmrig@gmail.com पर अपनी राय भेज सकते हैं ! ************************************* Admission Open At VCSM-STS Computer Centre,Near Block College Road Manihari(Katihar)**************** Bajaj OutLet Service Center @V/C Moters College Road Manihari ********************************* Contact for free Add here +919570228075 ***************पिंकी प्रेस में आपका स्वागत है सभी प्रकार की सुन्दर व आकर्षक छपाई के लिए संपर्क करे बस स्टैंड रोड, मनिहारी, (कटिहार) मोबाइल नंबर +91 9431629924 (गुड्डू कुमार)****************** MEMBERS OF KATIHAR LIVE-Mr.Abhijit Sharma(Katihar),Mr. Bateshwar Kumar(Manihari),Tinku kumar choudhary************ Contact For Free Advertising Here "KATIHAR LIVE" +919570228075 *********** Katihar Live Editor-Mrigendra kumar.Office-VCSM(IT_Zone College Road Manihari , Advisor- Kumar Gaurav(Narsingh Youdh Manihari,Arvind Roy(x-Reporter.Aaj,Anupam Uphar)* ************** Contact For Free Advertising Here "KATIHAR LIVE" +919570228075 ********

KATIHAR LIVE: बुरा न मनो होली है

Saturday, March 19, 2011

बुरा न मनो होली है

जिनकी है जेबें खाली,उनकी क्या होली क्या दिवाली
एक तो है ये महंगाई,उसके ऊपर पानी की आफत आई !
जिनकी जल से मिलती है सबको  मुक्ति,
उसी गंगा के किनारे बसे लोगों की यह युक्ति !
मार्च के महीने से ही है बुरा हाल,
आगे के चार महीने में होगा सब बेहाल !
नालों के आगे लगी लम्बी कतार,
पानी भरने की जल्दी में सब कर रहें हैं मार! 
रोटी और चावल तो किसी प्रकार खरीद लेंगे
पर क्या होली में सब मांस-मछली खा पाएंगे ?
पिने वाले तो अपनी जुगार बैठा ही लेंगे 
पर क्या ऐसी होली हम मानना चाहेंगे ?
क्यों न हम ऐसा करें अबकी होली ही न मनाएं ,
करें विनती प्रभु से की जापानियों को उनके बिचारें मिल जाये 
जिस विपदा में वह आज है, वो तो विकसित देशों का राज है !
हम विज्ञानं को कहतें हैं वरदान ,वही ले रहा है निर्दोषों की जान!
हमने जिसे आत्मरक्षा के लिए बनवाएं .वही हम पैर इतने जुल्म धायें !
लेकिन एक बात तोह है साफ़ जीतनी भी देशें हैं शक्तिशाली 
चाहे रूस,भारत,हो या अमेरिका ,नहीं है कोई खतरों से खाली !
हमें जैसा लगा हमने है लिख डाली .......... बुरा न मनो होली है .............
आलेख़-ओली गुहा 
aouliguha@gmail .com

0 comments:

Post a Comment

अपनी बहुमूल्य राय दें

भड़ास blog