कटिहार के एक मात्र समाचार ब्लोग में आपका स्वागत है!कटिहार लाइव तक अपनी बात पहुंचाने के लिए +91 9570228075 पर एसएमएस करें या फोन करें. चाहें तो trustmrig@gmail.com पर मेल कर सकते हैं. मीडिया में आवाजाही, हलचल, उठापटक, गतिविधि, पुरस्कार, सम्मान आदि की सूचनाओं का स्वागत है. किसी प्रकाशित खबर में खंडन-मंडन के लिए भी आप +91 9570228075 या trustmrig@gmail.com पर अपनी राय भेज सकते हैं ! ************************************* Admission Open At VCSM-STS Computer Centre,Near Block College Road Manihari(Katihar)**************** Bajaj OutLet Service Center @V/C Moters College Road Manihari ********************************* Contact for free Add here +919570228075 ***************पिंकी प्रेस में आपका स्वागत है सभी प्रकार की सुन्दर व आकर्षक छपाई के लिए संपर्क करे बस स्टैंड रोड, मनिहारी, (कटिहार) मोबाइल नंबर +91 9431629924 (गुड्डू कुमार)****************** MEMBERS OF KATIHAR LIVE-Mr.Abhijit Sharma(Katihar),Mr. Bateshwar Kumar(Manihari),Tinku kumar choudhary************ Contact For Free Advertising Here "KATIHAR LIVE" +919570228075 *********** Katihar Live Editor-Mrigendra kumar.Office-VCSM(IT_Zone College Road Manihari , Advisor- Kumar Gaurav(Narsingh Youdh Manihari,Arvind Roy(x-Reporter.Aaj,Anupam Uphar)* ************** Contact For Free Advertising Here "KATIHAR LIVE" +919570228075 ********

KATIHAR LIVE: 2010

Thursday, December 30, 2010

नए साल में रेलवे द्वारा मनिहारी को उपहार

मनिहारी (कटिहार 30 december   2010)साल के अंत होते-होते मनिहारी को भारतीय रेल द्वारा मिला उपहार! यह दृश्य जो आप देख रहें हैं यह कहीं और का नहीं बल्कि मनिहारी का है, जहाँ साल भर से रेल का परिचालन बंद है ! सालभर से भी अधिक रेल बंद होने के बाद यहाँ अब जोर-सोर से काम चल रहा है ! काम के रफ़्तार को देखकर यह लगता है क़ि अब वो दिन दूर नहीं है जब मनिहारी में फिर से रेल का परिचालन शुरू हो जायेगी ! हम आपको यह बता दें क़ि मनिहारी में पहले छोटी लाइन थी, जिसमे रेल चलती थी ! लेकिन पिछले साल ही यहाँ छोटी लाइन से बड़ी लाइन बनाने के लिए रेल को बंद किया गया था ! लेकिन अब लगता है क़ि बहुत जल्द ही यहाँ रेलगाड़ी दौड़ने लगेगी ! जिसके पहल में आज यहाँ पहली बार बड़ी लाइन का इंजन चलाया गया ! इंजन आने के बाद यहाँ मनिहारी वासियों में एकबार फिर से खुशी क़ि लहर दौर गयी क़ि अब बहुत जल्द ही यहाँ रेलगाड़ी चलने लगेगी ! जहाँ एक ओर मनिहारी क़ि जनता में खुशी देखी गयी वहीँ, वहीँ इंजन लाने वाले ड्राइवर तथा काम करने वाले मजदूरों में भी ख़ुशी देखी गयी ! मजदूरों में काफी खुशी का माहोल था ! इस इंजन को देखने बच्चे-बूढ़े, महिलाएं तथा सभी वर्ग के लोग यहाँ आये थे यहाँ देखकर ऐसा लगता था मानो मेला लगा हो ! युद्ध स्तर से कार्य होने के बाद अब यह देखना है क़ि मनिहारी में रेलगाड़ी कब से शुरु होती है ! देखा जाए तो लगभग काम पूरा ही हो चूका है !
                          -----टिंकू कुमार चौधरी  

Sunday, December 26, 2010

माइक्रोसॉफ्ट से जुड़ा VCSM

पटना !यूथ नौकरी के लिए अब स्टेट या कंट्री की सीमा में बंधकर नहीं रहना चाहते हैं. वे कहीं भी नौकरी करने के लिए तैयार हैं. ऐसे में उन्हें ग्लोबल सर्टिफिकेट की जरूरत पड़ती है. स्टूडेंट्स की इस जरूरत को वीसीएसएम ने बखूबी समझा. व‌र्ल्ड की बेस्ट आईटी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने वीसीएसएम को अपना ऑथराइज्ड टेस्टिंग सेंटर बनाया है. यह जानकारी साइबर लर्निग माइक्रोसॉफ्ट के नेशनल हेड मनीष दूबे ने दी. उन्होंने बताया कि अब बिहार के स्टूडेंट्स को वैल्य एडेड सर्टिफिकेट मिल सकेगा.
कॉरपोरेट सेक्टर में डिमांड
इससे पूर्व वर्कशॉप का इनॉगरेशन श्री दूबे के साथ विश्व कंप्यूटर साक्षरता मिशन के सीईओ राम संजीव कुमार, सीओओ राम राजीव कुमार, बिहार उद्योग सेवा के उपनिदेशक ललित कुमार सिन्हा ने किया. इस मौके पर सीईओ श्री कुमार ने बताया कि आज के यूथ इंटरनेशनल लेवल पर नाम कमाना चाहते हैं. वीसीएसएम के माइक्रोसॉफ्ट से जुड़ने का लाभ निश्चित रूप से स्टूडेंट्स को मिलेगा. कॉरपोरेट सेक्टर में माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस एक्सपर्ट की जबर्दस्त डिमांड है.
चार फेज में एग्जाम
उन्होंने कहा कि माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस एक्सपर्ट बनने के लिए स्टूडेंट्स को अब बाहर जाने की जरूरत नहीं होगी. इसके लिए उन्हें ऑनलाइन एग्जाम देना होगा. चार फेज में ये एग्जाम होंगे. सीओओ राम राजीव ने कहा कि संस्थान बहुत जल्दी यूनिवर्सिटी कोर्स भी ला रहा है. वर्कशॉप का संचालन फ्रेंचाइजी डेवलपमेंट ऑफिसर खुशबू ने किया. यूनिवर्सल को-ऑर्डिनेटर ज्ञानेन्द्र पिंटू ने वोट ऑफ थैंक्स वीसीएसएम ने किया. कार्यक्रम में बिहार-झारखंड के अलावा उत्तर प्रदेश से भी कई आईटी एक्सपर्ट मौजूद थे.
कटिहार में सुविधा उपलब्ध
कटिहार के मनिहारी प्रखंड कॉलेज रोड स्थित वी सी एस एम (विश्व कंप्यूटर साक्षरता मिशन) की साखा  में ये सारी सुविधाएं  उपलब्ध हैं  . विशेष जानकारी के लिए  मोबाइल नंबर  +919570228075  में संपर्क किया जा सकता है .

Sunday, November 7, 2010

मनिहारी में छठव्रतियों का उमरा भीड़

मनिहारी (टीम कटिहार लाइव) 07nov2010 : दीपावली  के समाप्त होते ही मनिहारी गंगा नदी में छठ-व्रतियों का लाखों के संख्या में भीड़ देखा जा रहा है ! ऐसा लगता है की जैसे पूरा मनिहारी छठ-व्रतियों  से भरा पड़ा है ! बस-स्टैंड से लेकर मनिहारी घाट तक सवेरे से ही छठ-व्रतियों की भीड़ को देखकर लगता है की जनसैलाब उमर पड़ा है ! आज भीड़ और प्रशासनिक व्यवस्था पूरी तरह अनियंत्रित देखी गयी ! ज्ञात हो की छठ पूजा के पहले गंगा स्नान का बहूत ही बड़ा धार्मिक महत्त्व होता है, जिस कारण से कटिहार और उसके आस-पास के छेत्र पूर्णिया, किशनगंज, अररिया, सुपौल, फारविसगंज, और पडोसी देश नेपाल से काफी संख्या में लोग यहाँ आते हैं ! मनिहारी के ऐतिहासिक महत्त्व के कारण भी लोग यही गंगा स्नान के लिए आते हैं !
**नगर पंचायत के द्वारा नहीं की गयी अभी तक कोई व्यवस्था 
 सदियों से प्रसिद्ध मनिहारी गंगा नदी छठ पूजा के लिए सर्वोतम माना गया है, कहतें है की यहाँ स्नान करने के पश्चात पूजा सफल होती है और सभी मनोकामना पूर्ण होती है ! इस बार मनिहारी में रेल सुविधा नहीं होने के कारण श्रधालुओं को काफी असुविधा का सामना करना पर रहा है, लेकिन फिर भी मनिहारी में श्रधालुओं की संख्या में कोई कमी नहीं दिखी !  लोग बस, टेम्पू, ट्रक्टर तथा निजी वाहनों से मनिहारी घाट में स्नान करने के लिए आ रहे हैं ! भीड़ को देखते हुए वाहनों को मनिहारी ब्लाक (बस-स्टैंड) के समीप लगाने की व्यवस्था की गयी है ! मनिहारी नगर पंचायत में साफ़-सफाई की कोई व्यवस्था नहीं दिखी ! नगर पंचायत कार्यालय के द्वारा किसी प्रकार की न तो नगर में और न ही गंगा नदी में सफाई की कोई व्यवस्था की गयी है, जिस कारण से नगरवासियों को भी भारी असुविधा उठानी पड़ रही है ! कटिहार लाइव जिला प्रशासन कटिहार एवं मनिहारी की जनप्रतिनिधियों से व्यवस्था को सुविधायुक्त बनाने की अपील करता है !



      

Wednesday, October 20, 2010

निर्माण या विध्‍वंस आपके हाथ में है, इसलिए आईए और वोट डालिए : नितीश कुमार

काफी लंबे अरसे बाद मैं आपको लिख रहा हूँ। जब से बिहार विधानसभा चुनावों की तारीखों की घोषणा हुई है तब से मैं काफी व्‍यस्‍त हो गया हूँ। पिछले करीब एक महीने से चुनाव संबंधी विभिन्‍न गतिविधियों ने मुझे घेर रखा है जिनमें उम्‍मीदवारों के चयन से लेकर पार्टी की तैयारी तक तमाम काम शामिल हैं।

मैंने हमेशा यह कहा है कि आगामी चुनाव पिछले सभी चुनावों से कई मामलों में अलग हैं। मेरा विचार है कि हमारे प्रदेश के लिए यह 'बनाओ या बिगाड़ो' किस्‍म के चुनाव सिद्व होंगे। राज्‍य के इतिहास में पहली बार इन चुनावों में 'विकास' सबसे महत्‍वपूर्ण मुद्दा बन कर उभरा है। आप में से हर एक को यह फैसला करना है कि विकास की इस गति को आगे भी जारी रखा जाए या फिर जात,  बिरादरी व संप्रदाय के नाम पर फिर विकास को कुरबान करके फिर उसी अंधियारे दौर में लौट जाएं।
अधिक पढने के लिए क्लिक करें  








Sunday, October 17, 2010

कटिहार में दुर्गा पूजा ......... आलौकिक नजारा

कटिहार में दुर्गा पूजा की विहंगम दृश्य ............ आलौकिक नजारा ......... कटिहार लाइव की नजर में ............





 बाजार समिति ,एफ सी आई 




संघर्ष क्लब 

              
 शिव मंदिर चौक 



 पानी टंकी चौक 



 बनिया टोला 



 संग्राम चौक 







Thursday, August 12, 2010

आजाद भारत के सम्मानित नागरिकों को कटिहार लाइव का अभिवादन

भारत की आजादी की तिरसठवीं वर्षगांठ के शुभअवसर पर कटिहार लाइव आपको अपने विचार और अनुभवों को सबके साथ साझा करने का आमंत्रण देता है. आज हम आजाद हैं और हमें गर्व है कि हम अपने लिए सारे नियम-कानून खुद तय कर सकते हैं, अपनी राजनीति और अर्थव्यवस्था को बेहतर तरीके से संचालित कर सकते हैं किंतु क्या वाकई ऐसी आजादी है हमें. क्या हम यही आजादी चाहते थे जिसमें शोषण और भेदभाव का चरम व्याप्त हो और असमान वितरण नीतियों की वजह से अमीरी-गरीबी के बीच फर्क दिनों-दिन बढ़ता जा रहा हो.

उपरोक्त मुद्दों के आलोक में स्वतंत्रता दिवस  के उपलक्ष्य में आप अपने बेबाक विचारों को  trustmrig@gmail.com भेज सकते हैं.जिसे शीघ्र ही कटिहार लाइव पर प्रकाशित कि जाय़ेगी.

Wednesday, July 21, 2010

ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को मिलेगी नि:शुल्क कम्प्यूटर शिक्षा

कटिहार। कम्प्यूटर शिक्षा के प्रति ग्रामीण क्षेत्रों
के छात्रों को प्रेरित करने के प्रति गैर सरकारी संस्था ज्ञाति सेवा संस्थान अभियान चला रही है। संस्था के सचिव शिन्टु कुमार सिंह ने प्रेसवार्ता में बताया कि दुनियां के पैमाने पर बढ़ती तकनीकी विकास और जीवन में कम्प्यूटर की बढ़ती उपयोगिता के मद्देनजर अब इसका बुनियादी ज्ञान रखना छात्रों के लिए अनिवार्य हो गया है। इसी उद्देश्य की दिशा में उनकी संस्था ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों को कम्प्यूटर ज्ञान नि:शुल्क उपलब्ध करा रही है। उनके अनुसार अब तक तकरीबन दो सौ ग्रामीण छात्रों को कम्प्यूटर की नि:शुल्क बुनियादी शिक्षा दी जा चुकी है। ग्रामीण क्षेत्र के गरीब-मेघावी छात्रों को चिकित्सा सेवा एवं अभियंत्रण की पढ़ाई के लिए संस्था द्वारा छात्रवृत्ति प्रदान किया जाता है। ताकि गांव की प्रतिभा को भी विकसित होने का अपील मिल सके।


Dainik Jagran  20 july 2010

Friday, March 26, 2010

बिन पानी सब सून

पानी की बढ़ती कमी के मद्देनजर अगला विश्वयुद्ध पानी के लिए होगा, इसकी आशंका व्यक्त की जा चुकी है। पाश्चात्य देशों में टायलेट वॉटर पर शोध की विस्तृत कार्य-योजना चल रही है ताकि उसे पीने योग्य बनाया जा सके।
पिछले दिनों एक खबर की हेडलाईन थी - 'पीने के लिए टायलेट वाटर।' खबर पढ़कर एक पल को झटका लगा कि हम किस ओर जा रहे हैं? क्या हमारी स्थिति इतनी खराब हो गई है कि हमें पीने के लिए टायलेट वाटर का इस्तेमाल करना पड़ेगा? किन्तु यदि गहराई से चिंतन करें तो पता चलता है कि मनुष्य ने प्रकृति के साथ इतना खिलवाड़ किया है कि प्रकृति के अंधाधुंध दोहन के कारण प्राकृतिक संपदाएं अथाह होते हुए भी खटने लगी है। सभी जानते है कि हमें हवा के पश्चात सबसे ज्यादा जरूरत पानी की होती है। हमारे आहार में 70 प्रतिशत भाग पानी का होता है फिर भी क्या कारण है कि हर घर में हर क्षेत्र में पानी का दुरुपयोग देखने को मिल जायेगा।
टी.वी. रेडियो आदि पर रोजाना कितने ही विज्ञापन पानी बचाने हेतु प्रसारित किए जाते है, पानी बचाओ, बिजली बचाओ, पानी की एक बूंद किसी का जीवन है आदि-आदि। इन विज्ञापनों को देखने-सुनने वाले थक गए किन्तु किसी के कानों पर जूं भी नहीं रेंगी। ऐसा ही प्रतीत होता है - वर्तमान समाज के माहौल को देखकर।
यद्यपि हमारे यहां वेद, उपनिषद तथा तमाम जैन साहित्य में पानी बचाने के निर्देश हैं। चाहे फिर वो प्यास से आकुल प्राणी को पानी पिलाने में धर्म मानता हो, कुएं, बावडी व तालाबों का संरक्षण करने में तथा नए बनवाने में भी धर्म मानता हो अथवा एक बूंद पानी में असंख्य जीवों का होना स्वीकारता हो, पर सभी बातों का उद्देश्य पानी को संरक्षित करना, उसके दुरुपयोग को रोकना ही प्रतीत होता है। इतना होने पर भी पानी का दुरूपयोग वर्षो से हो रहा है और हैरानी की बात है कि बढ़ता ही जा रहा है। प्रश् उठता है कि क्या हम आने वाली पीढ़ियों को पानी रूपी अमृत से वंचित रखना चाहते हैं? क्या हम चाहते हैं कि वे पानी की कमी के लिए हमें दोषी ठहराएं या फिर वे पानी के लिए तड़पते-तड़पते अपनी जान गंवा दें।
वैश्वीकरण के इस दौर में पानी भी बाजारी वस्तु हो गया है। उपभोक्ता कीमत देकर पानी खरीद रहा है। पाश्चात्य देशों में पानी की एक बोतल काफी बड़ी कीमत देकर खरीदनी पड़ती है और वहां थोड़े समय के लिए जाने वाला व्यक्ति पानी भी सोच समझ कर पीता है। ऐसी स्थिति के लिए जिम्मेदार कौन है? दर्पण में देखें तो स्वयं अपना ही अक्स नजर आयेगा। पैसे से पानी भी तभी तक खरीदना संभव होगा जब तक पानी है। जब पानी नहीं होगा, तब ये पैसे भी किसी काम के नहीं होंगें। रहीम दास जी ने एक दोहे में कितनी सटीक बात कही है-
रहिमन पानी राखिए, बिन पानी सब सून।
पानी गए न ऊबरे, मोती मानस चून॥
लगभग सभी हिन्दी भाषी लोगों को यह दोहा कंठस्थ होगा किन्तु इसे जीवन में उतारने वाले एक प्रतिशत से ज्यादा नहीं होंगे।  
कितने आश्चर्य का विषय है कि चांद पर पहुंच जाने वाला मानव आज भी हमारी सबसे अति आवश्यक धरोहर (पानी) को बचा पाने में अक्षम प्रतीत हो रहा है। पृथ्वी पर पानी का अतुल भंडार है। पृथ्वी के तीन हिस्से जलमय हैं किन्तु उसमें पीने लायक पानी काफी कम मात्रा में उपलब्ध है या यूं कहें कि जो उपलब्ध है, उसी का दुरूपयोग दिन प्रतिदिन इसकी कमी को बढ़ा रहा है। वैसे भारत में पानी पाश्चात्य देशों के मुकाबले काफी मात्रा में है। यहां वर्षा भी काफी अच्छी होती है। हालांकि संसाधनों की कमी के कारण इसका पूरा उपयोग नहीं हो पाता। जैसा कि 'भारत 2020' में राष्ट्रपति कलाम ने लिखा है कि भारत में होने वाली वर्षा की मात्रा को यदि बराबर सारे देश में छितरा दिया जाए तो पानी एक मीटर की गहराई तक दिखाई देगा। इस पानी को किस तरह उपयोग किया जायेगा यह तो वैज्ञानिक अनुसंधान का विषय है तथा आने वाला समय ही बतायेगा कि हम इसका कितना उपयोग कर पाते हैं? किन्तु क्या वैज्ञानिकों के भरोसे हाथ पर हाथ धरकर बैठ जाने से हमारेर् कत्तव्य की इतिश्री हो जाती है? क्या हमारा कार्य बिना पानी के चल सकता है? अगर नहीं तो फिर पानी को बचाने की जिम्मेदारी हमारी भी उतनी ही है जितनी किसी वैज्ञानिक की।
मुझे याद है कि बचपन में मेरी दादी कपड़े धोने से निकले हुए पानी को पौंछा लगाने के काम में, दाल-चावल व सब्जियां धोने से निकलने वाले पानी को पौधों में डालने के काम में लिया करती थी। हमारे घर में पानी का दुरूपयोग सर्वथा वर्जित था। आज ऐसे जीवन मूल्य दुर्लभ होते जा रहे हैं। हर बाथरूम में लगा हुआ बाथ-टब, खुले नलों के नीचे धुलते कपड़े और बरतन धोते या नहाते समय फव्वारें का इस्तेमाल आदि में पानी का जमकर प्रयोग होता है। आने वाले समय में पानी कोई दुर्लभ वस्तु न बन जाए, इसके लिए हमें आज से ही सावधान रहना होगा ताकि पानी की हर कीमती बूंद को बचाया जा सके और आने वाली पीढ़ी को पानी की कमी के लिए हमें उत्तरदायी ना ठहराएं, यही उपयुक्त होगा। पानी जीवन की पहली शर्त है। अत: पानी की बचत करने की आदत अपनी जीवन शैली में अपनाएं, यही जीवन को सुरक्षित रखने की तरफ हमारा पहला कदम होगा। इसके साथ ही हमें बरसात के पानी को उपयोग में लाने के तरीकों को भी अपनाना होगा ताकि उसकी हर बूंद का सदुपयोग हो सके।
पानी का सही इस्तेमाल ही हमें सुखद जीवन दे सकता है, फिर कभी बिन पानी सब सून की नौबत नहीं आयेगी
                                                                                       --------------साभार पूनम गुजरानी

Tuesday, March 23, 2010

सूचना अधिकार अधिनियम-२००५ के तहत मनिहारी थाना अध्यक्ष से सूचना की मांग


मनिहारी थाना केश सं०-३२/१० (२३.०२.१०)  में की गयी पुलिस कि कारवायी से क्षुब्ध होकर कटिहार लाइव ने सत्य को सामने लाने के लिये मानिहारी थाना अध्यक्ष से सूचना अधिकार कानून के तहत निम्नलिखित सूचना की मांग की  है !








सेवा में,
   श्रीमान लोक सूचना अधिकारी
   सह थानाअध्यक्ष मनिहरी थाना मनिहारी (कटिहार)


विषय़:- सूचना अधिकार अधिनियम-२००५ के तहत सूचना की मांग !


महाशय,


    मनिहारी थाना केश सं०--३२/१० (२३.०२.१०) से संबंधित निम्नलिखित सूचना कि मांग करता हूँ , सूचना उसी क्रम में प्रदान की जाय जिस क्रम में मांगी जा रही हो !


१.संबंधित केश सं-३२/१० (२३.०२.१०) के जाँच अधिकारी (आइ०ओ०) का नाम पद एवं पत्राचार पता बतायी जाय !
२.केश से संबंधित ट्रक का नंबर, ट्रक मालिक का नाम एवं पत्राचार पता,चालक एवं उपचालक का नाम एवं पत्राचार पता बतायी जाय !
३.संबंधित ट्रक चालक एवं उपचालक का वैध लाईसॆंस की प्रमाणित प्रति उपलब्ध करायी जाय !
४.ट्रक से संबंधित सभी वैध कागजात (जैसे-परमीट,फीटनेस पेपर,इन्सोरेंश,ओनर बुक, आदि ) कि प्रमाणित प्रति प्रदान की जाय एवं मूल प्रति का निरीक्षण करायी जाय !
५.चूकिं संबंधित ट्रक नॆ दूर्घटना नों-एन्ट्री के नियम को तोडकर की थी,कानून के तहत इस पर क्या कारवायी की गयी ? कारवायी से संबंधित कागजात की प्रमाणित प्रति उपलब्ध करायी जाय !
६.दिनांक २३.०२.२०१० के दिन नों-एन्ट्री में तैनात पुलिस कर्मी का नाम एवं पत्राचार का पता बतायी जाय !
७.संबंधित ट्रक को किसके आदेश से तथा किस तिथि को थाने से मुक्त की गयी ?आदेश कि प्रमाणित प्रति प्रदान की जाय !
८.चार्ज शीट दाखिल करने कि तिथि बतायी जाय,क्या बिना चार्ज शीट दाखिल किये संबंधित ट्रक को थाने से मुक्त करना कानूनन वैध है ?
९.क्या नों-एन्ट्री में तैनात पुलिस कर्मी कि गवाही ली गयी है ? अगर नहीं तो क्यों ?
१०. चूकिं  दूर्घटना नों-एन्ट्री में हुयी ,और ट्रक का प्रवेश नों-एन्ट्री में तैनात पुलिस कर्मी द्वारा ड्यूटी में लापरवाही बरतने के कारण हुयी ! अपने ड्यूटी पर लापरवाही बरतने वाले पुलिस कर्मी पर थाने ने क्या कारवायी की ?कारवायी से संबंधित कागजात की प्रमाणित प्रति उपलब्ध करायी जाय !
११.यदि ऐसा पता चलें कि केश से संबंधित पुलिस अधिकारी ने जांच या कारवायी में लापरवाही बरती है , तो क्या संबंधित पुलिस अधिकारी के विरुद्ध न्यायालय में जाया जा सकता है ?
१२.केश से संबंधित चार्ज-शीट कि प्रमाणित प्रति उपलब्ध करायी जाय !
१३.नों-एन्ट्री से संबंधित आदेशॊं एवं नियमों की प्रमाणित प्रति उपलब्ध कारायी जाय !
१४.केश से संबंधित दैनिक प्रगति रिपोर्ट की प्रमाणित प्रति उपलब्ध कारायी जाय !
१५.केश से संबंधित सभी कागजातों,लेखा पुस्तक आदि के मूल प्रति का निरीक्षण करायी जाय !

Saturday, February 27, 2010

होली की शुभकामनाऎं

कटिहार लाइव कि ओर से अपने पाठाकों और लेखकों को होली की शुभकामनाऎं

आप सभी को होलिका दहन पर्व की
हार्दिक शुभकामनायें


आओ हम सब मिलकर प्रभु से प्राथना करें कि वो हमारे हृदयों से काम, वासना , लोभ , वैमनस्य , घृणा , मोह इत्यादि का नाश करें और इन्हें सदा के लिये दहन कर दें और हमे एक अच्छा इंसान बनाने कि प्रेरणा दें .

आओ हम सब मिलकर एक निर्मल , सफल, उज्जवल, सबल
एवं
अटल भारत बनायें और पुनः सोन चिड़िया कहलायें .

Friday, February 5, 2010

कटा बरगद का पेड प्रशासन मौन

कटिहार मनिहारी घाट जामीनदारी बांध से लगे विशाल धार्मिक बरगद के पेड को लोगों ने निज फ़ायेदे के
लिये काट डाला ! जी हां, वही पीपल-बरगद का पेड जिसमें हजारों सुहागीनें अपनें पति परमेश्वर के लिये
कच्चें धागा बांधा करती थीं ! जिसके आगोंश में मनिहारी धाट के मजदूर जून महीनें की चिलचिलाती धूप
में सूखी रोटी खाकर आराम किया करतें थें !

भड़ास blog