कटिहार के एक मात्र समाचार ब्लोग में आपका स्वागत है!कटिहार लाइव तक अपनी बात पहुंचाने के लिए +91 9570228075 पर एसएमएस करें या फोन करें. चाहें तो trustmrig@gmail.com पर मेल कर सकते हैं. मीडिया में आवाजाही, हलचल, उठापटक, गतिविधि, पुरस्कार, सम्मान आदि की सूचनाओं का स्वागत है. किसी प्रकाशित खबर में खंडन-मंडन के लिए भी आप +91 9570228075 या trustmrig@gmail.com पर अपनी राय भेज सकते हैं ! ************************************* Admission Open At VCSM-STS Computer Centre,Near Block College Road Manihari(Katihar)**************** Bajaj OutLet Service Center @V/C Moters College Road Manihari ********************************* Contact for free Add here +919570228075 ***************पिंकी प्रेस में आपका स्वागत है सभी प्रकार की सुन्दर व आकर्षक छपाई के लिए संपर्क करे बस स्टैंड रोड, मनिहारी, (कटिहार) मोबाइल नंबर +91 9431629924 (गुड्डू कुमार)****************** MEMBERS OF KATIHAR LIVE-Mr.Abhijit Sharma(Katihar),Mr. Bateshwar Kumar(Manihari),Tinku kumar choudhary************ Contact For Free Advertising Here "KATIHAR LIVE" +919570228075 *********** Katihar Live Editor-Mrigendra kumar.Office-VCSM(IT_Zone College Road Manihari , Advisor- Kumar Gaurav(Narsingh Youdh Manihari,Arvind Roy(x-Reporter.Aaj,Anupam Uphar)* ************** Contact For Free Advertising Here "KATIHAR LIVE" +919570228075 ********

KATIHAR LIVE: बिन पानी सब सून

Friday, March 26, 2010

बिन पानी सब सून

पानी की बढ़ती कमी के मद्देनजर अगला विश्वयुद्ध पानी के लिए होगा, इसकी आशंका व्यक्त की जा चुकी है। पाश्चात्य देशों में टायलेट वॉटर पर शोध की विस्तृत कार्य-योजना चल रही है ताकि उसे पीने योग्य बनाया जा सके।
पिछले दिनों एक खबर की हेडलाईन थी - 'पीने के लिए टायलेट वाटर।' खबर पढ़कर एक पल को झटका लगा कि हम किस ओर जा रहे हैं? क्या हमारी स्थिति इतनी खराब हो गई है कि हमें पीने के लिए टायलेट वाटर का इस्तेमाल करना पड़ेगा? किन्तु यदि गहराई से चिंतन करें तो पता चलता है कि मनुष्य ने प्रकृति के साथ इतना खिलवाड़ किया है कि प्रकृति के अंधाधुंध दोहन के कारण प्राकृतिक संपदाएं अथाह होते हुए भी खटने लगी है। सभी जानते है कि हमें हवा के पश्चात सबसे ज्यादा जरूरत पानी की होती है। हमारे आहार में 70 प्रतिशत भाग पानी का होता है फिर भी क्या कारण है कि हर घर में हर क्षेत्र में पानी का दुरुपयोग देखने को मिल जायेगा।
टी.वी. रेडियो आदि पर रोजाना कितने ही विज्ञापन पानी बचाने हेतु प्रसारित किए जाते है, पानी बचाओ, बिजली बचाओ, पानी की एक बूंद किसी का जीवन है आदि-आदि। इन विज्ञापनों को देखने-सुनने वाले थक गए किन्तु किसी के कानों पर जूं भी नहीं रेंगी। ऐसा ही प्रतीत होता है - वर्तमान समाज के माहौल को देखकर।
यद्यपि हमारे यहां वेद, उपनिषद तथा तमाम जैन साहित्य में पानी बचाने के निर्देश हैं। चाहे फिर वो प्यास से आकुल प्राणी को पानी पिलाने में धर्म मानता हो, कुएं, बावडी व तालाबों का संरक्षण करने में तथा नए बनवाने में भी धर्म मानता हो अथवा एक बूंद पानी में असंख्य जीवों का होना स्वीकारता हो, पर सभी बातों का उद्देश्य पानी को संरक्षित करना, उसके दुरुपयोग को रोकना ही प्रतीत होता है। इतना होने पर भी पानी का दुरूपयोग वर्षो से हो रहा है और हैरानी की बात है कि बढ़ता ही जा रहा है। प्रश् उठता है कि क्या हम आने वाली पीढ़ियों को पानी रूपी अमृत से वंचित रखना चाहते हैं? क्या हम चाहते हैं कि वे पानी की कमी के लिए हमें दोषी ठहराएं या फिर वे पानी के लिए तड़पते-तड़पते अपनी जान गंवा दें।
वैश्वीकरण के इस दौर में पानी भी बाजारी वस्तु हो गया है। उपभोक्ता कीमत देकर पानी खरीद रहा है। पाश्चात्य देशों में पानी की एक बोतल काफी बड़ी कीमत देकर खरीदनी पड़ती है और वहां थोड़े समय के लिए जाने वाला व्यक्ति पानी भी सोच समझ कर पीता है। ऐसी स्थिति के लिए जिम्मेदार कौन है? दर्पण में देखें तो स्वयं अपना ही अक्स नजर आयेगा। पैसे से पानी भी तभी तक खरीदना संभव होगा जब तक पानी है। जब पानी नहीं होगा, तब ये पैसे भी किसी काम के नहीं होंगें। रहीम दास जी ने एक दोहे में कितनी सटीक बात कही है-
रहिमन पानी राखिए, बिन पानी सब सून।
पानी गए न ऊबरे, मोती मानस चून॥
लगभग सभी हिन्दी भाषी लोगों को यह दोहा कंठस्थ होगा किन्तु इसे जीवन में उतारने वाले एक प्रतिशत से ज्यादा नहीं होंगे।  
कितने आश्चर्य का विषय है कि चांद पर पहुंच जाने वाला मानव आज भी हमारी सबसे अति आवश्यक धरोहर (पानी) को बचा पाने में अक्षम प्रतीत हो रहा है। पृथ्वी पर पानी का अतुल भंडार है। पृथ्वी के तीन हिस्से जलमय हैं किन्तु उसमें पीने लायक पानी काफी कम मात्रा में उपलब्ध है या यूं कहें कि जो उपलब्ध है, उसी का दुरूपयोग दिन प्रतिदिन इसकी कमी को बढ़ा रहा है। वैसे भारत में पानी पाश्चात्य देशों के मुकाबले काफी मात्रा में है। यहां वर्षा भी काफी अच्छी होती है। हालांकि संसाधनों की कमी के कारण इसका पूरा उपयोग नहीं हो पाता। जैसा कि 'भारत 2020' में राष्ट्रपति कलाम ने लिखा है कि भारत में होने वाली वर्षा की मात्रा को यदि बराबर सारे देश में छितरा दिया जाए तो पानी एक मीटर की गहराई तक दिखाई देगा। इस पानी को किस तरह उपयोग किया जायेगा यह तो वैज्ञानिक अनुसंधान का विषय है तथा आने वाला समय ही बतायेगा कि हम इसका कितना उपयोग कर पाते हैं? किन्तु क्या वैज्ञानिकों के भरोसे हाथ पर हाथ धरकर बैठ जाने से हमारेर् कत्तव्य की इतिश्री हो जाती है? क्या हमारा कार्य बिना पानी के चल सकता है? अगर नहीं तो फिर पानी को बचाने की जिम्मेदारी हमारी भी उतनी ही है जितनी किसी वैज्ञानिक की।
मुझे याद है कि बचपन में मेरी दादी कपड़े धोने से निकले हुए पानी को पौंछा लगाने के काम में, दाल-चावल व सब्जियां धोने से निकलने वाले पानी को पौधों में डालने के काम में लिया करती थी। हमारे घर में पानी का दुरूपयोग सर्वथा वर्जित था। आज ऐसे जीवन मूल्य दुर्लभ होते जा रहे हैं। हर बाथरूम में लगा हुआ बाथ-टब, खुले नलों के नीचे धुलते कपड़े और बरतन धोते या नहाते समय फव्वारें का इस्तेमाल आदि में पानी का जमकर प्रयोग होता है। आने वाले समय में पानी कोई दुर्लभ वस्तु न बन जाए, इसके लिए हमें आज से ही सावधान रहना होगा ताकि पानी की हर कीमती बूंद को बचाया जा सके और आने वाली पीढ़ी को पानी की कमी के लिए हमें उत्तरदायी ना ठहराएं, यही उपयुक्त होगा। पानी जीवन की पहली शर्त है। अत: पानी की बचत करने की आदत अपनी जीवन शैली में अपनाएं, यही जीवन को सुरक्षित रखने की तरफ हमारा पहला कदम होगा। इसके साथ ही हमें बरसात के पानी को उपयोग में लाने के तरीकों को भी अपनाना होगा ताकि उसकी हर बूंद का सदुपयोग हो सके।
पानी का सही इस्तेमाल ही हमें सुखद जीवन दे सकता है, फिर कभी बिन पानी सब सून की नौबत नहीं आयेगी
                                                                                       --------------साभार पूनम गुजरानी

3 comments:

भूतनाथ said...

mrigendra.....vaah bhaayi vaah.....

kshama said...

Bada hee sashakt aur moolywaan aalekh hai..paniki bachat behad zaroori hai..

जयराम “विप्लव” { jayram"viplav" } said...

कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

कलम के पुजारी अगर सो गये तो

ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

Post a Comment

अपनी बहुमूल्य राय दें

भड़ास blog