कटिहार के एक मात्र समाचार ब्लोग में आपका स्वागत है!कटिहार लाइव तक अपनी बात पहुंचाने के लिए +91 9570228075 पर एसएमएस करें या फोन करें. चाहें तो trustmrig@gmail.com पर मेल कर सकते हैं. मीडिया में आवाजाही, हलचल, उठापटक, गतिविधि, पुरस्कार, सम्मान आदि की सूचनाओं का स्वागत है. किसी प्रकाशित खबर में खंडन-मंडन के लिए भी आप +91 9570228075 या trustmrig@gmail.com पर अपनी राय भेज सकते हैं ! ************************************* Admission Open At VCSM-STS Computer Centre,Near Block College Road Manihari(Katihar)**************** Bajaj OutLet Service Center @V/C Moters College Road Manihari ********************************* Contact for free Add here +919570228075 ***************पिंकी प्रेस में आपका स्वागत है सभी प्रकार की सुन्दर व आकर्षक छपाई के लिए संपर्क करे बस स्टैंड रोड, मनिहारी, (कटिहार) मोबाइल नंबर +91 9431629924 (गुड्डू कुमार)****************** MEMBERS OF KATIHAR LIVE-Mr.Abhijit Sharma(Katihar),Mr. Bateshwar Kumar(Manihari),Tinku kumar choudhary************ Contact For Free Advertising Here "KATIHAR LIVE" +919570228075 *********** Katihar Live Editor-Mrigendra kumar.Office-VCSM(IT_Zone College Road Manihari , Advisor- Kumar Gaurav(Narsingh Youdh Manihari,Arvind Roy(x-Reporter.Aaj,Anupam Uphar)* ************** Contact For Free Advertising Here "KATIHAR LIVE" +919570228075 ********

KATIHAR LIVE
            
Tourism



                                                                  
1.पीर पहाड़

कटिहार जिले के मनिहारी प्रखंड में अवस्थित पीर पहाड़ पर एतिहासिक "बाबा हजरत जीतनशाह रहमतुल्लाअलेह" का मजार अवस्थित है ! यह मनिहारी रेलवे स्टेशन से लगभग 50m की दुरी पर स्तिथ है !लगभग 60 फिट ऊँचे इस एतिहासिक पहाड़ पर सन 1338 ई० में पीर मजार के भवन का निर्माण कराया गया ! ऐसा माना जाता है कि, मनिहारी निवासी स्व० अतुल मुखर्जी ने यहाँ आकर कुछ मन्नतें मांगी थी ! उन्होंने कहा था कि, यदि मेरी मुराद पूरी हो जाएगी तो मैं बाबा के मजार पर भवन का निर्माण प्रशंतापुर्वक करवाऊंगा ! बाबा कि महिमा अपरमपार थी उनकी मुरादें पूरी हो गयी, तो उन्होंने अपने कथनानुसार सन 1338  ई० भवन का निर्माण पीर पहाड़ पर करवाया, जो मनिहारी के इतिहास में एक नया अध्याय जुड़ गया ! तभी से लेकर आज तक लोग यहाँ आते हैं और अपनी मन्नतें मांगते हैं, एक रस्म के अनुसार यहाँ आनेवाले पत्थर के टुकरे को कपडे से बांध कर अपनी मन्नतें मांगतें हैं, और जब उनकी मुराद पूरी होती है,तो वो पुनः आतें हैं और प्रसाद,चादर इत्यादि चढातें है ! यहाँ के सेवक(खादिम )मो० सफिउद्दीन  हैं, जो यहाँ के देखरेख करतें हैं ! रास्ट्रीय सम विकाश योजना से पीर मजार पर प्रशाल, सीढ़ी एवं सुरक्षात्मक  कार्य 07-11-2010 को संपन्न हुआ ! 
            इस मजार  पर हर जाति, हर धर्म के लोग सालों भर आते रहतें हैं ! इस मजार सरीफ का हर वर्ष सालाना उर्स मुबारक 25 सव्वल को मनाया जाता है, जिसमे कव्वाली और जलसा का भी आयोजन होता है !उत्तरी बिहार के सबसे ऊँचा इस पहाड़  पर  प्राकृतिक संपदा से परिपूर्ण अनेक पेड़ हैं ! यहाँ अधिकतर इमली, आम, और अनेक प्रकार के जड़ी-बूटियों के पोधें हैं ! इसके पीछे लगभग 40 मी० दुरी से गंगा नदी बहती है ! सावन के महीने में "बाबा हजरत जीतनशाह रहमतुल्लाअलेह" के मजार को गंगा नदी छु कर गुजरती है,जो इसके सुन्दरता को और बढ़ा देती  है ! पीर मजार के पीछे साईड से निचे में गुफा जैसा बना हुआ है, जिसमे से चुना पत्थर खल्ली निकलता था ! पीर मजार के सामने एक एतिहासिक कुआं है, उस कुआं का पानी जैसे मुख में लेतें हैं पानी मीठा होने के कारण मन को शांति  मिलती है ! इसके सटे हुए बी0 पी0 एस0 पी० उच्च विद्यालय अवस्थित है !




2. गोगाबील झील - पक्षी विहार

पक्षी बिहार के नाम से विख्यात यह झील पर्यटकों के लिए सर्वोतम स्थान है !यह मनिहारी बस स्टैंड से पूर्वी दिशा में लगभग 8 क़ि० मी० दूर स्तिथ है ! जनवरी से मार्च तक यहाँ पर्यटकों का भीड़ काफी देखी जाती है, क्योंकि यही वह समय है जब रूस तथा अन्य देशों से लगभग 300 पक्षियों क़ि प्रजातियाँ यहाँ आतें है ! 217.99 एकड़ में फैला हुआ यह झील आगे पढ़ें...                                                                                                        

भड़ास blog